greenhouse effect – ग्रीनहाउस प्रभाव

Table of Contents

पृथ्वी की प्राकृतिक जलवायु निरंतर बदलती रहती है। ग्रीन हाउस प्रभाव के द्वारा पृथ्वी की सतह गर्म हो रही है। ग्रीन हाउस प्रभाव greenhouse effect सूर्य की किरणें कुछ गैस और वायुमंडल में उपस्थित कुछ करना से मिलकर होने वाली जटिल प्रक्रिया है। कुछ सूर्य की ऊष्मा वायुमंडल से परावर्तित होकर बाहर से भी जाती है। लेकिन कुछ ग्रीन हाउस गैसों के द्वारा बनाई हुई परत के कारण बाहर नहीं जाती है। अतः पृथ्वी का निम्न वायुमंडल गर्म हो जाता है।
सौर ऊर्जा- सुरज की ओर से मिलने वाली ऊर्जा निम्न तरह से उपयोग में आती है।
  • 30% सौर ऊर्जा ब्रह्मांड में परिवर्तित हो जाता है|
  • 23% सौर ऊर्जा जल चक्र में जल बाष्प और नमी में प्रयोग हो जाता है।
  • 47% सौर ऊर्जा वायुमंडल पृथ्वी तथा समुद्र के द्वारा अवशोषित होता है|
  • 1% से कम सौर ऊर्जा हवा तथा वायु रहा में प्रयोग होता है।
  • 0.01% सौर ऊर्जा प्रकाश संश्लेषण में प्रयोग होता है।
कुछ उसमें ऊर्जा ब्रह्मांड से परावर्तित ना होकर वायुमंडल में उपस्थित ग्रीन हाउस गैसों के द्वारा अवशोषित हो जाती है जिससे पृथ्वी का वायुमंडल गर्म हो जाता है। यही सामान्य ग्रीन हाउस प्रभाव greenhouse effect  है।
लाभदायक–  सामान्यता ग्रीन हाउस के बिना पृथ्वी का औसत तापमान 18 डिग्री सेंटीग्रेड होगा जो कि वर्तमान में 15 डिग्री सेंटीग्रेड है जिससे सामान्य जीवन संभव नहीं है। पृथ्वी का तापमान सामान्य बनाए रखने का श्रेय ग्रीन हाउस गैसों को है। इनकी मात्रा बढ़ने पर समस्या भी उत्पन्न होती है।
ग्रीनहाउस इफेक्ट नाम क्यों दिया गया-
ग्रीन हाउस का प्रयोग ठंडे देशों में जहां वाक्य तापमान अत्याधिक कम होता है अंतरिक वायुमंडल को गर्म रखने के लिए किया जाता है । इन ग्रीन हाउस  greenhouse effect  में सूर्य की रोशनी पारदर्शी कांच के द्वारा आती है। इससे ग्रीनहाउस की अंतरिक्ष था गर्म रहती है जो कि पौधों तथा अन्य सामानों के लिए उपयोगी होती है। प्राकृतिक ग्रीन हाउस प्रभाव वायुमंडल के मानक पर यह है कि ग्रीन हाउस और ग्रीन हाउस गैस से ग्रीन हाउस के ग्लास कवच की तरह है।
गैस की वजह से ग्रीन हाउस इफेक्ट होता है-
  • कार्बन डाइऑक्साइड
  • मिथेन
  • नाइट्रस ऑक्साइड
  • हेलो कार्बन
  • ओजोन
  • जल बाष्प

ग्रीन हाउस गैस बढ़ने से ग्रीन हाउस greenhouse effect प्रभाव   ग्लोबल वार्मिंग का खतरा बढ़ रहा है। इसलिए ग्रीनहाउस इफेक्ट को बढ़ावा देने वाले गैसों का उत्सर्जन कम होना चाहिए।

  • नीचे दिए गए उपायों से यह संभव है-
  • सौर ऊर्जा जल विद्युत ऊर्जा नाभिकीय ऊर्जा इत्यादि का उपयोग बढ़ाना चाहिए।
  • हेलो कार्बन के उत्पादन को कम करना चाहिए जैसे फ्रीज, एयर कंडीशन में पुनःउपयोग
  • रसायनों का प्रयोग करना चाहिए।
  • इंधन वाले वाहनों का प्रयोग कम करना चाहिए।
  • समुद्र शैवाल बढ़ाना चाहिए ताकि प्रकाश संश्लेषण के द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड का प्रयोग किया जा सके।
  • वनीकरण को बढ़ावा देना चाहिए।

ग्रीन हाउस प्रभाव greenhouse effect के बारे में अधिक जानकारी।

ग्रीन हाउस प्रभाव greenhouse effect के बारे में वीडियो देखें।

[embedyt] https://www.youtube.com/watch?v=fVy2B65pFJE[/embedyt]

1 Comment

Leave Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!